Logo text

होम » कार्यक्रम » एफडीपी

एफडीपी



संकाय विकास प्रोग्राम (एफ डी पी) चार महीने का आवासीय प्रोग्राम है, जिसे विशेष रूप से प्रबंधन शिक्षा और प्रशिक्षण संस्थानों के संकाय सदस्यों के लिए बनाया गया है। एफ डी पी की पहली पेशकश 1979 में की गई थी। तब से इसे प्रबंधन शिक्षकों के विकास संबंधी उभरती आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए लगातार संशोधित और पुन:संरचित किया गया है। 33वाँ एफ डी पी 06 सितम्बर  से 24 सितम्बर 2011 के बीच आयोजित किया गया। एफ डी पी पूर्व छात्र नेटवर्क में नेपाल, बांग्लादेश, मालदीव, श्रीलंका और इथियोपिया के 76 प्रबंधन शिक्षकों सहित 623 सदस्य हैं। ये सदस्य प्रबंधन शिक्षा की गुणवत्ता के सुधार के लिए काफी योगदान दे रहे हैं।

प्रतिभागी क्या उम्मीद कर सकते हैं?

प्रोग्राम का एकमात्र उद्देश्य प्रतिभागियों का शिक्षण विज्ञान और शोध कौशलों को विकसित करना है। अनिवार्य पाठ्यक्रम का एक पैकेज शिक्षण और अनुसंधान क्षमताओं को बढ़ाता है, और वैकल्पिक पाठ्यक्रम का समूह प्रतिभागियों की रुचि वाले क्षेत्रों के ज्ञान में सुधार करता है।

34 वें  एफ डी पी की घोषणा 2012 के आरंभ में की जायेगी। 2012 में लगभग जून के प्रथम सप्ताह से सितंबर के अंतिम सप्ताह के दौरान यह कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा।
 

"पढ़ाने के लिए सीखो और सीखने के लिए पढ़ो" यह बोध हमने वास्तव में आई आई एम-ए में एफ डी पी से मिला है। एक स्पष्ट प्रोग्राम संरचना, समृद्ध सामग्री, अपेक्षित संकाय और प्रतिभागियों के साथ जारी संचार ने इस प्रोग्राम को हम सबके लिए एक अद्वितीय अनुभव बना दिया है। वास्तव में आई आई एम-ए में यह उसके सभी कार्यक्रमों में संस्थागत हो रहा है। एफ डी पी संपूर्ण छात्र और शिक्षक समुदाय के लिए लाभकारी है, इसलिए मैं इसे संस्था निर्माण नहीं, बल्कि राष्ट्रनिर्माण कहना चाहता हूँ"

उमेश धंड (32nd एफ डी पी , Turn on JavaScript!

 

अध्यक्ष का संदेश

 

2012 में अपने संकाय विकास कार्यक्रम की 34वीं आवृत्ति भा.प्र.सं.अ. पेश करेगा। एक अर्थपूर्ण तरीके से प्रबंधन शिक्षण के व्यवसायीकरण को 623 जितने मजबूत सदस्यों के नेटवर्क का योगदान मिल रहा है। इस कार्यक्रम में जुड़ने के लिए मैं प्रबंधन स्कूलों में काम कर रहे उन सभी युवा शिक्षकों को आमंत्रित करता हूँ, जो अपने अध्यापन संबंधी और प्रबंधन अनुसंधान कौशलों का विकास करना चाहते हैं। आपको यहाँ काफी समृद्ध व पुरस्कृत अनुभव मिलेगा। प्रबंधन स्कूलों के अध्यक्षों को विशेष रूप से कहुँगा: एफ़डीपी में आपके संकायों को प्रायोजित करने से, आप अपने संस्थान में शैक्षणिक नवाचार के लिए एक केन्द्रक का सर्जन कर रहे हैं। प्रबंधन शिक्षण की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए इस संयुक्त खोज में आपके साथ सहभागिता निर्माण की हम आशा करते हैं।